Saturday, May 18, 2024
Homeखासशिक्षकों के अपमान पर सीएम की चुप्पी ..मतलब अपने मंत्रियों पर नहीं...

शिक्षकों के अपमान पर सीएम की चुप्पी ..मतलब अपने मंत्रियों पर नहीं कोई नियंत्रण: विक्रमादित्य सिंह

शिक्षकों के अपमान को लेकर विक्रमादित्य सिंह का मुख्यमंत्री व उनके मंत्रियों पर प्रहार ..कहा मंत्रियों को सीएम की खुली छूट साथ ही कहा..सार्वजनिक तौर पर माफ़ी मांगे महेंद्र सिंह ठाकुर

शिमला,5 जुलाई: कांग्रेस महासचिव विधायक विक्रमादित्य सिंह ने जल शक्ति मंत्री महेंद्र सिंह की शिक्षको के खिलाफ की गई उनकी सार्वजनिक टिप्पणी की कड़ी आलोचना करते हुए उनसे शिक्षकों से सार्वजनिक तौर पर माफ़ी मांगने को कहा है। उन्होंने कहा है कि महेंद्र सिंह ने शिक्षकों का घोर अपमान किया है जिसे सहन नहीं जा सकता है।

विक्रमादित्य सिंह ने भाजपा की आलोचना करते हुए कहा है कि महेंद्र सिंह ने शिक्षकों के प्रति उनकी मानसिकता को प्रदर्शित कर दिया है। कोरोना काल में शिक्षकों को प्रथम पंक्ति के कोरोना योद्धाओं की संज्ञा देने वाली भाजपा नेताओं की पूरी पोल खुल गई है।
विक्रमादित्य सिंह ने जल शक्ति मंत्री महेंद्र सिंह को आड़े हाथ लेते हुए कहा है कि उन्हें सत्ता का नशा इस कदर छाया है कि वह अधिकारियों के साथ-साथ आम लोगों को भी सरेआम धमकाते रहते हैं। पिछले दिनों मुख्य सचिव का जिस प्रकार से उन्होंने मंत्रीमंडल की बैठक में अपमान किया है,वह पूरी तरह निंदनीय है।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री की अपने इस मंत्री के अपमान जनक व्यवहार पर खामोशी का साफ अर्थ है कि उनका अपने मंत्रियों पर कोई नियंत्रण नही है,और उन्होंने इन्हें अधिकारियों, लोगों को धमकाने की खुली छूट दे रखी है।
विक्रमादित्य सिंह ने कहा है कि प्रदेश में होने वाले तीन उप चुनावो को सामने देख भाजपा पूरी तरह बौखलाहट में है। असल मे प्रदेश में बढ़ती महंगाई, बेरोजगारी, बिगड़ती अर्थव्यवस्था ऐसे मुद्दे है जिनका भाजपा के पास कोई जवाब नही है। देश हो या प्रदेश भाजपा की नीतियों ने आज सब कुछ बरबाद कर दिया है। उन्होंने कहा है कि प्रदेश में तीनों उप चुनाव कांग्रेस जीतेगी और अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों में भी प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments

× How can I help you?