Saturday, September 25, 2021
Home कैंपस अफगानी छात्रों के साथ प्रशासन,कोरोना में अनाथ हुए छात्रों को निःशुल्क व...

अफगानी छात्रों के साथ प्रशासन,कोरोना में अनाथ हुए छात्रों को निःशुल्क व 50% कॉन्सेशन की सुविधा : प्रो.नागेंद्र पराशर

बाहरा विश्वविद्यालय द्वारा की गई पत्रकार वार्ता आयोजित

शिमला,18 अगस्त : बाहरा यूनिवर्सिटी द्वारा आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में आज वाइस चांसलर प्रोफेसर नागेंद्र शर्मा ने कहा कि अफगान की घटना से प्रभावित यूनिवर्सिटी अपने यहां पढ़ने वाले छात्रों का पूरा सहयोग करेगी। फिलहाल अभी विश्वविद्यालय में एक ही छात्र अध्ययनरत है और तकरीबन 30 छात्र अभी आने बाकी है जो अफगान हालातों के कारण वे विश्वविद्यालय नहीं पहुंच पाए हैं। प्रोफेसर नागेंद्र ने पत्रकारों के प्रश्नों का उत्तर देते हुए कहा कि विश्वविद्यालय प्रशासन अपने अफगानी छात्रों का पूरा सहयोग करने को तत्पर है ।

कोरोना में अनाथ हुए छात्रों को प्रशासन का साथ:
वहीं विश्वविद्यालय में कोरोना काल में कोरोना महामारी के कारण अपने माता-पिता खो चुके बच्चों को पूरा सत्र निशुल्क शिक्षा की सुविधा प्रदान की है। वहीं पिता खो चुके छात्रों को 50% आरक्षण दिया गया है।  प्रो.पराशर ने कहा कि कोरोना महामारी का के प्रभाव से उनका विश्वविद्यालय अछूता नहीं है। कोरोना के कारण आर्थिक तंगी से किसी छात्र की पढ़ाई बाधित न हो इसीलिए प्रशासन ने निःशुल्क व 50% कॉन्सेशन की सुविधा प्रदान की है।
जॉब प्रोवाइडर बनाना लक्ष्य:
अभी हाल ही में वीसी नियुक्त प्रो.पराशर ने कहा कि  वह बाहरा यूनिवर्सिटी को देश की 100 सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालयों में शामिल करना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि वह अपने छात्रों को मात्र एक ही क्षेत्र में आगे बढ़ता नहीं देखना चाहते हैं बल्कि वह चाहते हैं कि उनका हर छात्र हर क्षेत्र में अग्रणी हो। उन्होंने कहा कि इसके लिए टीचर्स के लिए विशेष ट्रेनिंग शुरू करने का निर्णय लिया गया लेकिन कोरोना के कारण अभी शुरू नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि जल्द ही सरकार के निर्देशानुसार विवि के खुलते ही इस संबंध में उठाएंगे।
उन्होंने कहा कि वह सिर्फ जॉब सीकर ही नहीं बल्कि अपने छात्रों को जॉब प्रोवाइडर बनाने का लक्ष्य रखते हैं। उन्होंने कहा कि उनका ध्यान प्रदेश के पिछड़े इलाकों में संभावनाओं की खोज करना है ताकि उनका सही व उचित निष्पादन किया जा सके।
हर छात्र को बनाना है मल्टीडिसीप्लिनरी :
उन्होंने कहा कि आज मल्टीडिसीप्लिनरी यानी बहु-विषयक की मांग है और उनका व उनके विश्विद्यालय का उद्देश्य छात्रों को  बहु-विषयक बनाना है। इस समय विश्विद्यालय में देश-विदेश के लगभग1500 छात्रों का भविष्य संवारा जा रहा है और प्रशासन द्वारा अपने छात्रों के भविष्य के लिए पूरा प्रयास किया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

पहाड़ी राज्यों के लिए आदर्श राज्य के रूप में उभरा हिमाचल : पीयूष गोयल

  शिमला, 24 सितंबर: केन्द्रीय उपभोक्ता कार्य, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण और वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल हिमाचल दौरे पर आज शिमला पहुंचे हैं। आज...

रंग लाए सीएम जयराम के प्रयास, हिमाचल को मिला चिकित्सा उपकरण पार्क

शिमला,24 सितंबर:  केंद्र की मोदी सरकार ने हिमाचल प्रदेश को एक और तोहफा दे दिया है। केंद्र सरकार ने प्रदेश के जिला सोलन के...

आईजीएमसी में 27 और 28 सितंबर को बाधित रहेगी स्कैन सेवा

शिमला,24 सितंबर:  आईजीएमसी प्रशासन ने अस्पताल सीटी स्कैन करवाने के लिए आने वाले मरीजों के लिए सूचना जारी की है जिसमें प्रशासन ने मरीजों...

ग्रामीण विकास में जिला परिषद की भूमिका महत्वपूर्ण: विधानसभा उपाध्यक्ष

चंबा, 24 सितंबर:  जिला परिषद की बैठक में आज विधानसभा उपाध्यक्ष डॉ.हंसराज ने कहा है कि ग्रामीण विकास में जिला परिषद की महत्वपूर्ण भूमिका...

Recent Comments

× How can I help you?