Wednesday, May 22, 2024
Homeक्राइमचंबा हत्याकांड का मुख्य आरोपी 1998 मामले का भी दोषी: जयराम...

चंबा हत्याकांड का मुख्य आरोपी 1998 मामले का भी दोषी: जयराम ठाकुर

चंबा हत्याकांड की जयराम ठाकुर ने मांगी एनआईए जांच,शिमला में की पत्रकार वार्ता

शिमला,15 जून:  पूर्व मुख्यमंत्री एवं नेता प्रतिपक्ष जयराम ठाकुर ने शिमला में प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि चंबा जिला में एक गंभीर मामला सामने आया है। 6 जून 2023 को मनोहर जो हिंदू दलित परिवार से संबंध रखता था वह घर से गुम हो गया, कुछ दिनों बाद उसकी लाश एक नाले में मिली जिसके 8 हिस्से बोरी से बरामद हुए। हमारी देवभूमि हिमाचल प्रदेश में यह घटना रेयर है, इस घटना को लेकर समाज में तनाव है और यह घटना देश एवं प्रदेश में चिंता का विषय बन गई है। यह सामान्य घटना नहीं है और किसी सामान्य व्यक्ति द्वारा नहीं की गई है। यह असामान्य घटना है जिसने पूरे प्रदेश भर को झंझोर कर रख दिया है।

नेता प्रतिपक्ष जयराम ठाकुर ने कहा कि इस घटना में मुख्य आरोपी मुसाफिर मोहम्मद, उनकी पत्नी फरीदा और अन्य 6 लोग हैं। जयराम ठाकुर ने कहा कि मनोहर की हत्या लकड़ी काटने वाले कटर द्वारा की गई है। लाश को जलाने का प्रयास भी किया गया पर डर के कारण लाश को बोरी में सुनसान जगह फेंक दिया गया। कुछ दिनों बाद मनोहर का जूता नदी में मिला और उसके बाद लाश बरामद की गई।

उन्होंने कहा कि मैं आरोपी के कुछ महत्वपूर्ण जानकारी जनता के समक्ष लाना चाहता हूं जिसके बारे में हमें पता चला है, इस व्यक्ति ने हाल ही में 2000 के 97 लाख नोट बैंक में एक्सचेंज करवाए थे, इसके बैंक अकाउंट में दो करोड़ का डिपाजिट है और आय का साधन इतना नहीं है। उक्त व्यक्ति के पास तीन बीघा मलकियत जमीन है और कब्जा 100 बीघा जमीन पर है। अपनी जमीन पर किसी को आने जाने नहीं देता। 10,000 फीट की ऊंचाई पर यह रहता है जहां 6 से 10 फुट बर्फ पड़ती है, पर फिर भी वह इतनी बर्फ में वहीं रहता है, इसके पास 100 बकरियां है पर हर साल 200 बकरियां बेचता है । क्या यह व्यक्ति किसी और की बकरियों पर कब्जा करता है।

1998 चंबा के गांव के हत्याकांड में जब जम्मू कश्मीर के आतंकी हिमाचल में घुस गए थे और 35 लोगों की हत्या करी थी, 7 लोगों को जिंदा ही जम्मू-कश्मीर ले गए थे जो आज तक मिले नहीं। उस मामले में भी इस आरोपी को लेकर जांच में शामिल किया गया था, इस व्यक्ति ने सभी सबूतों को नष्ट करने का प्रयास किया है और यह ही नहीं कुछ प्रभावशाली व्यक्ति इस जांच को दबाने का प्रयास भी कर रहे हैं। यह लोग कह रहे हैं यह 2 लोगों का निजी मामला है। यह व्यक्ति अपने समुदाय में एक प्रभावशाली व्यक्ति भी है और छुप-छुप कर इनके समुदाय के लोग इस मामले को दबाने का प्रयास कर रही हैं।

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान सरकार ने इस पूरे मामले को लेकर एसआईटी का गठन तो किया है पर भारतीय जनता पार्टी का मानना है कि इस पूरे मामले की एनआईए से जांच करवानी चाहिए। जांच में इसमें बहुत सारे पहलू सामने निकल कर आएंगे। उन्होंने कहा कि प्रदेश अध्यक्ष डॉ राजीव बिंदल और मैं कल स्वयं मृतक के परिवारों से मिलने जाएंगे।

जयराम ठाकुर ने कहा मुख्यमंत्री बार-बार कहते हैं कि हिमाचल 97% हिंदू प्रदेश है और हमने उनको हिमाचल प्रदेश में हराया है, यह मुख्यमंत्री काफी सार्वजनिक मंचों से भी कह चुके हैं और कर्नाटक चुनाव में भी इसी शैली का प्रयोग किया गया है। मुख्यमंत्री स्पष्ट करें कि उनका कहने का क्या तात्पर्य है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments

× How can I help you?