Wednesday, May 22, 2024
Homeकृषिकिसानों ने जानी शीतोष्ण फलों व सब्जियों की उन्नत तकनीक

किसानों ने जानी शीतोष्ण फलों व सब्जियों की उन्नत तकनीक

शीतोष्ण फलों, सब्जियों और आलू की उन्नत तकनीक" विषय पर अनुसूचित जाति उपयोजना के तहत 3-दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन

भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान केंद्र शिमला के शोधफार्म ढांडा में चियोग एवं शोधी पंचायत के 100 किसानों के लिए “शीतोष्ण फलों, सब्जियों और आलू की उन्नत तकनीक” विषय पर अनुसूचित जाति उपयोजना के तहत 3-दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है।

शीतोष्ण फलों व सब्जियों की उन्नत तकनीक की जानकारी लेते किसान
डॉ.कल्लोल प्रमाणिक ने इस केंद्र के शीतोषण फलों जैसे सेब, नाशपाती, खुमानी, अनार, कीवी तथा अन्य गुठलीदार फलों के पौधों को लगाने और इस समय बगीचे में किए जाने वाले कार्यो जैसे कि रनिंग, कटिंग तथा कीटनाशकों तथा अन्य प्रकार की स्प्रे के बारे में बताया। इस अवसर पर ढांडा शोधफार्म के वैज्ञानिक डॉ. ए.के. शुक्ला और डॉ. संतोष ने सेब, अनार एवं कीवी के बारे मे विस्तार से प्रयोगात्मक जानकारी दी। आलू संस्थान के डॉ. रवीन्द्र कुमार ने आलू मे लगने वाले रोग एवं कीटों के बारे जानकारी दी। इस अवसर पर किसानो को सेब, कीवी और अनार की रोपण सामग्री (उर्वरक, उपकरण, कीटनाशक आदि) दी।
कार्यक्रम के मुख्य अतिथि डॉ. एन.के. पाण्डेय, सभागाध्यक्ष, सामाजिक विज्ञान संभाग केंद्रीय आलू अनुसंधान संस्थान शिमला रहे। इस कार्यक्रम की अध्यक्षता डॉ. कल्लोल प्रमाणिक, अध्यक्ष, भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान केंद्र, ने की। इस मौके पर चियोग पंचायत के प्रधान कंचन और शोधी पंचायत की प्रधान आशा कश्यप ने अपनी उपस्थिती दर्ज की।  डॉ.रवीन्द्र कुमार द्वारा धन्यवाद प्रस्ताव दिया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments

× How can I help you?