Saturday, September 25, 2021
Home राजनीति सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ माकपा का संघर्ष होगा तेज़ :...

सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ माकपा का संघर्ष होगा तेज़ : राकेश सिंघा

सीपीआई (एम), शिमला इकाई का चौदहवाँ जिला सम्मेलन आयोजित,17 सदस्यीय जिला कमेटी का गठन, संजय चौहान चुने गए जिला सचिव

शिमला,5 सितंबर: सीपीआई (एम),शिमला इकाई का दो दिवसीय 14वां जिला सम्मेलन रामपुर में संपन्न हुआ। सम्मेलन में नई जिला कमेटी का गठन किया गया जिसमें संजय चौहान को सचिव पद पर चुना गया साथ ही बाबूराम,जगमोहन ठाकुर,सत्यवान पुण्डीर,संदीप वर्मा, हेमराज,अजय दुल्टा,कुलदीप डोगरा, पूर्ण ठाकुर,मदन नेगी,रामलाल,विजय राजटा,देवकीनंद, बालकराम,डॉ. रीना सिंह,अनिल ठाकुर को सदस्य चुना गया। एक स्थान रिक्त रखा गया है जिसे बाद में भरा जाएगा।
सम्मेलन में राजनैतिक और सांगठनिक स्थितियों पर विस्तार से चर्चा की गई और तय किया गया कि पार्टी भाजपा की जन विरोधी आर्थिक नीतियों,साम्प्रदायिक एजेंडे, लोकतांत्रिक संस्थाओं पर हमले के विरुद्ध संघर्ष तेज करेगी। इसके लिए पार्टी संगठन को मज़बूत और चुस्त-दुरुस्त किया जाएगा ताकि जनता के जनवादी, मानव अधिकारों की सुरक्षा की जा सके।
सम्मेलन में फलों एवं फसलों का उचित समर्थन मूल्य देने, कर्मचारियों के वेतन संशोधन, श्रम कानूनों के बदलाव के खिलाफ, महिलाओं की समस्याओं व मुद्दों,नई शिक्षा नीति 2020 व शिक्षा के भगवाकरण के खिलाफ, दलित उत्पीड़न के खिलाफ प्रस्ताव सहित 6 प्रस्ताव पारित किए गए। जिनमें मुख्यतः श्रम क़ानूनों में संशोधन की प्रक्रिया को तुरंत बंद करने, फलों और फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य घोषित करने, वेतन संशोधन को अविलम्ब लागू करने, वेतन संशोधन फैक्टर काम से कम 2.75  करने,  संसद और विधानसभाओं में महिलाओं के लिए 33 प्रतिशत आरक्षण, महिलाओं की सामाजिक सुरक्षा सुनिश्चित करने, दलितों के उत्पीड़न पर रोक लगाने, नई शिक्षा नीति को निरस्त करने, शिक्षा के भगवाकरण को रोकने की मांग उठाई गई।
सम्मेलन के समापन अवसर पर विधायक राकेश सिंघा ने कहा कि आज जिस तरह से किसान आंदोलन ने संघर्ष की एक मिसाल पेश की है और श्रमिक वर्ग उसके साथ खड़ा हुआ है उससे आने वाले समय में देश में ताक़तों का संतुलन बदलेगा और जनता किसान-मज़दूर विरोधी नीतियों, साम्प्रदायिक नवउदारवादी एजेंडे को नकारते हुए जनपक्षीय नीतियों के लिए आवाज़ उठाने वाली ताकतों को समर्थन देगी।
सिंघा ने कहा कि इस समय जनता जिस पीड़ा से गुज़र रही है और उसमें सरकार के खिलाफ गुस्सा और आक्रोश है ऐसे में कम्युनिस्ट पार्टी का दायित्व है कि वह जनता के साथ खड़ी हो और उनकी लड़ाई में उनका साथ दे।
14वें जिला सम्मेलन में जिला की 12 लोकल कमेटियों और लोकल ऑर्गेनिसिंग कमेटियों के 108 प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

पहाड़ी राज्यों के लिए आदर्श राज्य के रूप में उभरा हिमाचल : पीयूष गोयल

  शिमला, 24 सितंबर: केन्द्रीय उपभोक्ता कार्य, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण और वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल हिमाचल दौरे पर आज शिमला पहुंचे हैं। आज...

रंग लाए सीएम जयराम के प्रयास, हिमाचल को मिला चिकित्सा उपकरण पार्क

शिमला,24 सितंबर:  केंद्र की मोदी सरकार ने हिमाचल प्रदेश को एक और तोहफा दे दिया है। केंद्र सरकार ने प्रदेश के जिला सोलन के...

आईजीएमसी में 27 और 28 सितंबर को बाधित रहेगी स्कैन सेवा

शिमला,24 सितंबर:  आईजीएमसी प्रशासन ने अस्पताल सीटी स्कैन करवाने के लिए आने वाले मरीजों के लिए सूचना जारी की है जिसमें प्रशासन ने मरीजों...

ग्रामीण विकास में जिला परिषद की भूमिका महत्वपूर्ण: विधानसभा उपाध्यक्ष

चंबा, 24 सितंबर:  जिला परिषद की बैठक में आज विधानसभा उपाध्यक्ष डॉ.हंसराज ने कहा है कि ग्रामीण विकास में जिला परिषद की महत्वपूर्ण भूमिका...

Recent Comments

× How can I help you?