Tuesday, November 30, 2021
Home राज्य महिलाएं अपने अधिकारों के प्रति सजग रहते हुए अन्याय के खिलाफ करें...

महिलाएं अपने अधिकारों के प्रति सजग रहते हुए अन्याय के खिलाफ करें संघर्ष: डॉ.डेजी ठाकुर

डॉ. डेजी ठाकुर ने की घरेलू हिंसा अधिनियम, 2005 पर आयोजित एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम की अध्यक्षता

मंडी, 24 सितंबर:  राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष डॉ. डेजी ठाकुर ने मंडी के सभागार में शुक्रवार को घरेलू हिंसा अधिनियम, 2005 पर आयोजित एक दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए महिलाओं से अपने अधिकारों को लेकर सजग रहने का आग्रह किया है। उन्होंने कहा कि जरूरी है महिलाएं अन्याय के खिलाफ संघर्ष करें और अपने हक के लिए आवाज बुलंद करें। महिला आयोग इसमें उनकी हरसंभव सहायता करेगा ।

डॉ.डेजी ठाकुर ने बताया कि राज्य महिला आयोग द्वारा महिलाओं की सहायता के लिए संरक्षण व सुरक्षा अधिकारी नियुक्त किए गए हैं, जो पीड़ित महिलाओं की शिकायतों का निराकरण करते हैं और गंभीर समस्याओं को उच्च स्तर तक पहुंचाने में उनकी सहायता करते हैं । नियुक्त अधिकारी महिलाओं को उनके अधिकारों की जानकारी भी समय-समय पर प्रदान करते हैं ।

 

उन्होंने बताया कि कोरोना काल में भी महिलाओं की सहायता के लिए एक व्हट्सएप नंबर जारी किया गया था,जो महिलाओं की शिकायतों का निवारण में बहुत कारगर रहा। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार द्वारा महिला आयोग का गठन कर महिलाओं को एक ऐसा मंच प्रदान किया गया है जहां महिलाएं अपनी समस्याओं का निःशुल्क समाधान पाती हैं।

डॉ.डेजी ठाकुर ने कहा कि हमारे समाज में आज भी पीड़ित महिलाएं घर से बाहर नहीं निकलती हैं और एफआईआर दर्ज कराने में भी संकोच करती हैं। महिला आयोग महिलाओं को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करने के लिए काम कर रहा है। इस प्रकार के प्रशिक्षण कार्यक्रम अन्य जिलों में भी लगाए जाएंगे ताकि महिलाओं को जागरूक किया जा सके ।

इस अवसर पर महिला आयोग की सदस्य मंजरी नेगी ने कहा कि सभी महिलाओं-पुरूषों को अपनी सोच में सकारात्मक बदलाव लाना होगा। महिलाओं को भी अपने पति व बुजुर्गों की समस्याओं को समझना आवश्यक है तभी हमारा घर-परिवार अच्छी तरह से चल सकता है। उन्होंने समय-समय पर महिलाओं की काउंसलिंग करने की जरूरत पर भी बल दिया ।
जिला कार्यक्रम अधिकारी, बाल विकास परियोजनाएं अंजू बाल ने मुख्य अतिथि का स्वागत किया और प्रशिक्षण कार्यक्रम के आयोजन के लिए महिला आयोग का आभार जताया।

राज्य महिला आयोग के अधिवक्ता अनुज वर्मा ने घरेलू हिंसा अधिनियम, 2005 के बारे में विस्तार से जानकारी प्रदान की। अधिवक्ता मुकुल शर्मा व देवेन्द्रा देवी ने भी इस अवसर पर महिलाओं के कानूनी अधिकारों की जानकारी प्रदान की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

राज्य सरकार प्रदेश को देश का सबसे पसंदीदा पर्यटन गंतव्य बनाने के लिए कृतसंकल्पः मुख्यमंत्री

शिमला,29 नवंबर: मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने कहा कि प्रदेश सरकार हिमाचल को देश का सबसे पसंदीदा पर्यटन गंतव्य बनाने के लिए कृत संकल्प...

शिमला पुलिस का आग्रह: स्मार्ट सिटी के तहत चल रहे कार्य क्षेत्रों में ना पार्क करें गाड़ी

  शिमला,29 नवंबर: शिमला शहर में स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत शहर में कार्य किए जा रहे हैं। इन कार्यों के अंतर्गत फ्लाईओवर ब्रिज, पैदल...

सर्दियों में सड़क पर ठिठुरते बेसहारा गरीबों की सुध लेगा मानवाधिकार आयोग: डॉ.अजय भंडारी

शिमला,29 नवंबर: हिमाचल प्रदेश राज्य मानवाधिकार आयोग सर्दियों में सड़कों पर ठिठुरने को मजबूर बेसहारा लोगों  की सुध लेगा। आयोग के सदस्य डॉ.अजय भंडारी...

Recent Comments

× How can I help you?